शेयर मार्केट क्या है और कैसे काम करता है? | What Is The Share Market And How Does It Work In Hindi

  • Post category:Featured

शेयर मार्केट क्या है और कैसे काम करता है?(What is the share market and how does it work In Hindi) एक शेयर मार्केट वह जगह है जहां शेयर या तो जारी किए जाते हैं या उनमें कारोबार किया जाता है।

Share Market Kya Hai | What is the share market and how does it work? (In Hindi)
What Is The Share Market And How Does It Work In Hindi

शेयर मार्केट एक शेयर मार्केट के समान है। मुख्य अंतर यह है कि एक शेयर मार्केट आपको वित्तीय साधनों जैसे बांड, म्यूचुअल फंड, डेरिवेटिव के साथ-साथ कंपनियों के शेयरों का व्यापार करने में मदद करता है। एक शेयर मार्केट केवल शेयरों के व्यापार की अनुमति देता है। डेरिवेटिव मार्केट में अपनी यात्रा शुरू करने के लिए यहां क्लिक करें।

Also Read:- ब्लॉग कैसे बनाये और पैसे कैसे कमाए | How To Make Blog And Earn Money In Hindi

शेयर मार्केट क्या है? – What is share market

शेयर मार्केट एक ऐसा मंच है जहां खरीदार और विक्रेता दिन के विशिष्ट घंटों के दौरान सार्वजनिक रूप से सूचीबद्ध शेयरों पर व्यापार करने के लिए एक साथ आते हैं। लोग अक्सर ‘शेयर मार्केट’ और ‘शेयर मार्केट’ शब्दों का परस्पर उपयोग करते हैं। हालाँकि, दोनों के बीच महत्वपूर्ण अंतर इस तथ्य में निहित है कि पूर्व का उपयोग केवल शेयरों के व्यापार के लिए किया जाता है, बाद वाला आपको विभिन्न वित्तीय प्रतिभूतियों(securities) जैसे बांड, डेरिवेटिव, विदेशी मुद्रा आदि का व्यापार करने की अनुमति देता है।

भारत में प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) हैं।

मूल मंच जो कंपनी के शेयरों और अन्य प्रतिभूतियों(securities) के व्यापार के लिए उपयोग की जाने वाली सुविधाएं प्रदान करता है। किसी स्टॉक को केवल तभी खरीदा या बेचा जा सकता है जब वह किसी एक्सचेंज में सूचीबद्ध हो। इस प्रकार, यह स्टॉक खरीदारों और विक्रेताओं का मिलन स्थल है। भारत के प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज हैं। शेयर मार्केट कैसे काम करता है, यह समझने के लिए यहां क्लिक करें।

शेयर मार्केटों के प्रकार

शेयर मार्केटों को आगे दो भागों में वर्गीकृत किया जा सकता है:

1. प्राथमिक शेयर मार्केट – Primary Share Market

जब कोई कंपनी शेयरों के माध्यम से धन जुटाने के लिए स्टॉक एक्सचेंज में पहली बार सूचीबद्ध(listed) होती है, तो वह प्राथमिक मार्केट में प्रवेश करती है। इसे आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) कहा जाता है, जिसके बाद कंपनी सार्वजनिक रूप से पंजीकृत हो जाती है और इसके शेयरों का मार्केट सहभागियों के बीच कारोबार किया जा सकता है।

2. द्वितीयक मार्केट – Secondary Market

एक बार जब कंपनी की नई प्रतिभूतियों(securities) को प्राथमिक मार्केट में बेच दिया जाता है, तो उनका कारोबार द्वितीयक शेयर मार्केट में किया जाता है। यहां, निवेशकों के पास मौजूदा मार्केट कीमतों पर आपस में शेयर खरीदने और बेचने का अवसर होता है। निवेशक आमतौर पर एक दलाल या अन्य मध्यस्थ के माध्यम से इन लेनदेन का संचालन करते हैं जो इस प्रक्रिया को सुविधाजनक बना सकते हैं।

शेयर मार्केट कैसे काम करता है? – How does the share market work?

1. एक कंपनी प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश के माध्यम से प्राथमिक मार्केट में सूचीबद्ध होती है।

2. शेयर द्वितीयक मार्केट में वितरित किए जाते हैं

3. जारी किए गए शेयरों का कारोबार निवेशकों द्वारा द्वितीयक मार्केट में किया जा सकता है।

4. स्टॉक ब्रोकर और ब्रोकरेज हाउस शेयर मार्केट में पंजीकृत संस्थाएं हैं जो आपको उक्त कीमत पर एक निश्चित शेयर खरीदने की पेशकश करते हैं।

5. आपका ब्रोकर आपके बाय ऑर्डर को एक्सचेंज को भेजता है, जो उसी स्टॉक के लिए सेल ऑर्डर की तलाश करता है।

6. इस प्रक्रिया में T+2 दिन लगते हैं, यानी आपको अपने डीमैट खाते में जमा किए गए शेयर दो व्यावसायिक दिनों में प्राप्त हो जाएंगे।

शेयर मार्केट निवेश का सबसे बड़ा जरिया है। जितने रु. भारत में दो स्टॉक एक्सचेंजों पर कुछ मौकों पर 6 लाख करोड़ के शेयरों का कारोबार हुआ है। शेयर मार्केट में निवेश को अक्सर जुआ कहा जाता है। यदि आप शेयर मार्केट की मूल बातें समझ लेते हैं तो यह जुआ बनना बंद हो जाएगा।

लेकिन इससे पहले कि आप शुरू करें, आप मार्केट से संबंधित कुछ अवधारणाओं से खुद को परिचित करना चाहेंगे।

शेयर मार्केट में क्या कारोबार होता है?

1. Shares

शेयर एक कंपनी के स्वामित्व वाली इक्विटी की एक इकाई का प्रतिनिधित्व करते हैं। शेयरधारक(shareholder) लाभांश के रूप में कंपनी के सभी लाभों के हकदार हैं। वे कंपनी को होने वाले किसी भी नुकसान(loss) के वाहक भी हैं।

2. Bonds

लंबी अवधि और लाभदायक परियोजनाओं को शुरू करने के लिए, एक कंपनी को पर्याप्त पूंजी की आवश्यकता होती है। पूंजी जुटाने का एक तरीका जनता को बांड जारी करना है। ये बांड कंपनी द्वारा लिए गए “ऋण” का प्रतिनिधित्व करते हैं। बांडधारक कंपनी के लेनदार बन जाते हैं और कूपन के रूप में समय पर ब्याज भुगतान प्राप्त करते हैं। बांडधारकों(bondholders) के दृष्टिकोण से, ये बांड निश्चित आय के साधन के रूप में कार्य करते हैं, जहां वे निर्धारित अवधि के अंत में अपने निवेश के साथ-साथ उनकी निवेशित राशि पर ब्याज प्राप्त करते हैं।

3. Mutual Funds

म्युचुअल फंड पेशेवर रूप से प्रबंधित फंड हैं जो कई निवेशकों के पैसे को जमा करते हैं और सामूहिक पूंजी को विभिन्न वित्तीय प्रतिभूतियों(securities) में निवेश करते हैं। आप कुछ नाम रखने के लिए इक्विटी, डेट, या हाइब्रिड फंड जैसे विभिन्न वित्तीय(various financial) साधनों के लिए म्यूचुअल फंड ढूंढ सकते हैं।

प्रत्येक म्यूचुअल फंड(mutual fund) शेयरों की तुलना में एक निश्चित राशि में यूनिट सर्टिफिकेट जारी करता है। अगर आप ऐसे किसी फंड में निवेश करते हैं तो आप इस म्यूचुअल फंड स्कीम के शेयरधारक बन जाएंगे। यदि इस बंदोबस्ती योजना का हिस्सा होने वाले उपकरण समय के साथ आय उत्पन्न करते हैं, तो यूनिटधारक को यह आय प्राप्त होगी, जिसे लाभांश भुगतान के बजाय फंड का शुद्ध परिसंपत्ति मूल्य माना जाता है।

4. Derivatives

एक व्युत्पन्न(derived) एक सुरक्षा है जो अंतर्निहित सुरक्षा से अपना मूल्य प्राप्त करती है। यह एक विस्तृत श्रृंखला हो सकती है जैसे कि पुर्जे, बांड, पैसा, सामान और बहुत कुछ! डेरिवेटिव के खरीदार और विक्रेता परिसंपत्ति की कीमत के बारे में विपरीत अपेक्षाएं रखते हैं और इसलिए भविष्य की कीमत के लिए “कानूनी अनुबंध” में प्रवेश करते हैं।

शेयर मार्केट क्या है और कैसे काम करता है? | What Is The Share Market And How Does It Work In Hindi

शेयर मार्केट में निवेश कैसे करें – How to invest in share market

सबसे पहले, आपको शेयर मार्केट में निवेश करने के लिए एक ट्रेडिंग खाता और एक बैंक खाता खोलना होगा। पैसे और स्टॉक के सुचारू हस्तांतरण की सुविधा के लिए यह ट्रेडिंग और लेनदेन खाता आपके बचत खाते से जोड़ा जाएगा। कृपया ध्यान दें कि डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट अलग-अलग हैं, कृपया डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट के बीच अंतर के बारे में और पढ़ें।

हम अपने व्यापारियों और निवेशकों के विविध सेट के अनुरूप स्टॉक खरीदने और बेचने के लिए कई व्यापारिक उपकरण प्रदान करते हैं

ऑनलाइन ट्रेडिंग(online trading): अपने स्टॉक निवेश निर्णयों का प्रभार लेना चाहते हैं? हमारी मजबूत ऑनलाइन ट्रेडिंग प्रणाली आपको ऑनलाइन शेयर मार्केट में पूरी आसानी और सुविधा के साथ निवेश करने में मदद करेगी। ऑनलाइन शेयर खरीदने के लिए, अपने यूजर आईडी, पासवर्ड और सुरक्षा कुंजी/एक्सेस कोड के साथ अपने ट्रेडिंग खाते में लॉग इन करें।

Step1: अपनी निवेश आवश्यकताओं और सीमाओं को जानें

सबसे पहले, अपनी निवेश आवश्यकताओं और सीमाओं को समझें। आपकी आवश्यकताओं को वर्तमान और भविष्य को ध्यान में रखना चाहिए।

वही इसकी सीमाओं पर लागू होता है। उदाहरण के लिए, आपको अभी-अभी नौकरी मिली और आपने रु. 20,000 प्रति माह। आपकी सीमा यह हो सकती है कि आपको कम से कम रु.10,000 उनकी कार किस्त के भुगतान के लिए, और अन्य रु5,000 आपके मासिक खर्च के लिए ।

इससे केवल रु.5,000 निवेश उद्देश्यों के लिए । अब, यदि आप जोखिम से बचने वाले निवेशक हैं, तो आप इस राशि का अधिक निवेश बांड और सावधि जमा जैसे कम जोखिम वाले विकल्पों में करना पसंद कर सकते हैं। इसका मतलब है कि आपके पास शेयर मार्केट में निवेश करने के लिए केवल एक छोटा सा हिस्सा बचा है – रु 1,000 इसके अलावा, अपने कर दायित्वों से अवगत रहें।

याद रखें, स्टॉक की अल्पकालिक खरीद और बिक्री पर लाभ कमाने पर पूंजीगत लाभ कर लगता है। यदि आप एक वर्ष के बाद अपने शेयर बेचते हैं तो यह लागू नहीं होता है।

इसलिए सुनिश्चित करें कि आपकी नकदी की जरूरतें आपको अपने स्टॉक को अल्पावधि में अनावश्यक रूप से बेचने के लिए मजबूर न करें। भविष्य में अनावश्यक लागतों को आकर्षित करने की तुलना में एक बुद्धिमान और सुविचारित निर्णय लेना बेहतर है।

अपने वित्त की बेहतर योजना बनाने के लिए आप वित्तीय योजना में तल्लीन कर सकते हैं। ये हैं फाइनेंशियल प्लानिंग के फायदे

Step2: अपनी निवेश रणनीति तय करें

एक बार जब आप अपनी निवेश प्रोफ़ाइल को समझ लेते हैं, तो शेयर मार्केट का विश्लेषण करें और अपनी निवेश रणनीति तय करें। पता लगाएँ कि कौन-सी क्रियाएँ आपकी प्रोफ़ाइल के अनुकूल हैं। ऊपर दिए गए उदाहरण को जारी रखते हुए, 1,000 रुपये के बजट के साथ, आप एक लार्ज-कैप स्टॉक या कई स्मॉल-कैप स्टॉक खरीदना चुन सकते हैं। यदि आपको आय के अतिरिक्त स्रोत की आवश्यकता है, तो उच्च-लाभांश शेयरों के लिए जाएं।

अन्यथा, विकास शेयरों के लिए जाएं जो भविष्य में और अधिक सराहना करने की संभावना रखते हैं। आप किस प्रकार के स्टॉक एकत्र करना चाहते हैं, यह तय करना आपकी निवेश रणनीति का हिस्सा है।

अपनी व्यक्तिगत वित्तीय योजना बनाने के लिए यहां चरण-दर-चरण मार्गदर्शिका दी गई है।

Step3: सही समय पर मार्केट में प्रवेश करें

सही पल की प्रतीक्षा करें। क्या आपने कभी किसी चीते या बाघ को शिकार करते देखा है? वे अपने शिकार की प्रतीक्षा में कुछ देर लेट जाते हैं और फिर कूद पड़ते हैं। ठीक उसी तरह शेयर मार्केट में समय का सबसे ज्यादा महत्व होता है। केवल सही स्टॉक प्राप्त करना पर्याप्त नहीं है। आपकी कमाई तभी अधिकतम होगी जब आप न्यूनतम संभव स्तर पर खरीदारी करेंगे। यदि आप अपने शेयर बेच रहे हैं तो भी यही बात लागू होती है। इसके लिए समय चाहिए। आवेगी मत बनो।

Step4: trade करें

अपने ब्रोकर के माध्यम से अपना व्यापार ऑनलाइन या फोन पर करें। सुनिश्चित करें कि आपका ब्रोकर ट्रेड की पुष्टि करता है और सभी विवरण सही प्राप्त करता है। त्रुटियों से बचने के लिए ऑपरेशन की पुष्टि को दोबारा जांचें।

Step5: अपने पोर्टफोलियो की निगरानी करें

अपने पोर्टफोलियो की नियमित निगरानी करें। शेयर मार्केट गतिशील है। कुछ अप्रत्याशित कारकों के कारण कंपनियां एक पल लाभदायक दिखाई दे सकती हैं और अगले क्षण इतनी लाभदायक नहीं दिख सकती हैं। जिन कंपनियों में आपने निवेश किया है, उन पर नियमित रूप से पढ़ना सुनिश्चित करें। एक दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति की स्थिति में, इससे पहले कि बहुत देर हो जाए, इससे आपको अपने नुकसान को कम करने में मदद मिलेगी।

हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि हर बार स्टॉक गिरने पर आप घबरा जाते हैं। किसी स्टॉक की कीमत किसी बिंदु पर गिर जाएगी क्योंकि मार्केट में कुछ निवेशक आपके मुकाबले कम निवेश क्षितिज के साथ होंगे। तो, आप अपने शेयर बेचेंगे और उस कम से कम समय में जितना संभव हो उतना मुनाफा कमाएंगे। मार्केटों में धैर्य एक प्रमुख गुण है।

बुनियादी बातों में से एक है अपने निवेश को मार्केट की अस्थिरता से बचाना। स्मॉल कैप कंपनियों के पतन से खुद को बचाने के लिए आप 5 तरीके पढ़ सकते हैं

शेयर मार्केट क्या है और कैसे काम करता है? | What Is The Share Market And How Does It Work In Hindi

शेयर बाज़ार में शेयर कब खरीदें? – When to buy shares in the stock market?

आपको शेयर मार्केट क्या है इसका थोड़ा अंदाजा तो होना ही चाहिए| आइए जानते हैं शेयर मार्केट में निवेश कैसे करें हिंदी में? शेयर मार्केट में स्टॉक खरीदने से पहले, आपको पहले इस लाइन में अनुभव हासिल करना होगा कि यहां कैसे और कब निवेश करना है। और आप अपना पैसा किस कंपनी में लगाएंगे तो आपको मुनाफा होगा।

इन सब बातों का पता लगाएं, ज्ञान बटोरें, तभी जाकर शेयर मार्केट में निवेश करें। शेयर मार्केट में कंपनी का कौन सा हिस्सा बढ़ा या घटा, यह जानने के लिए आप इकोनॉमिक टाइम्स जैसे अखबार पढ़ सकते हैं या बिजनेस न्यूज चैनल एनडीटीवी भी देख सकते हैं जहां से आपको शेयर मार्केट क्या है हिंदी में पूरी जानकारी मिलेगी।

शेयर मार्केट का महत्व – Importance of share market

शेयर मार्केट कंपनियों को विकास और विस्तार के लिए पूंजी जुटाने का अवसर प्रदान करता है। जो निवेशक कंपनी की विकास गाथा का हिस्सा बनना चाहते हैं, वे इसके शेयर खरीदकर भाग ले सकते हैं। व्यापारी, जिनमें से अधिकांश अल्पकालिक स्टॉक खरीदते हैं, मार्केट में स्टॉक की कीमतों में उतार-चढ़ाव के आधार पर मुनाफा कमा सकते हैं। इसलिए, शेयर मार्केट अर्थव्यवस्था के विभिन्न स्तरों पर धन के निर्माण में भाग लेता है।

स्टॉक निवेश की उच्च तरलता से व्यापारियों और निवेशकों को भी लाभ होता है। शेयरों का परिसमापन किसी भी समय संभव है। एक शेयरधारक को धन की तत्काल आवश्यकता होती है, जब मार्केट सत्र में हो तो अपने शेयर बेचने का विकल्प होता है। इसलिए, होल्डिंग्स को किसी भी समय नकदी में परिवर्तित किया जा सकता है।

शेयर मार्किट कब बढ़ता है और कब घटता है? – When does the stock market rise and when does it fall?

शेयर मार्केट में तेजी और गिरावट का मुख्य कारण मांग और आपूर्ति है।

मार्केट(Market) में आपको दो तरह के लोग देखने को मिल जाएंगे, लेकिन दोनों की राय अलग-अलग है। कुछ लोग सोचते हैं कि मार्केट ऊपर जाएगा और कुछ लोग सोचते हैं कि मार्केट नीचे जाएगा। इसे समझने के लिए दो बातों को समझना बेहद जरूरी है।

1. यदि मांग बढ़ती है या आपूर्ति से अधिक है, तो कीमत या कीमत में वृद्धि होती है।

2. दूसरी ओर, यदि मांग के साथ आपूर्ति बढ़ती है, तो कीमत या कोटेशन में कमी होती है।

निष्कर्ष – Conclusion

आज, शेयरों में निवेश लंबी अवधि की संपत्ति बनाने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक माना जा सकता है। एक रणनीतिक निवेश योजना के साथ, कोई भी निवेशक शेयर मार्केट की मदद से अपने दीर्घकालिक वित्तीय(long term financial) लक्ष्यों को प्राप्त कर सकता है।

If you like it, so stay tuned with techtodays.in. Also Keep Follow Us On Instagram And Facebook

Leave a Reply